36

Results

Category

Vernacular

Words And Voices: कौन सुनता है मुझे, पता नहीं
Words And Voices: कौन सुनता है मुझे, पता नहीं

हर रोज़ अलग अलग वजहों से, हर शहर हर क़स्बे में कई नवजात शिशु मिलते है कचरे के ढेरों में, झाड़ियों में घायल और लहुलुहान. कुछ बचते है और कुछ......

गुजरात की वो कहानी, पंक्चर वाले की ज़ूबानी – 2
गुजरात की वो कहानी, पंक्चर वाले की ज़ूबानी – 2

उसकी कहानी लम्बी थी पर वो कहानी में बता नहीं सकता क्यों की उस में आदमी  का मजहब पता चल जाता है। उसने मुझे अपना नाम  बताया और न मैंने उसको पूछा। ...