कम्बख्त ज़िन्दगी

कम्बख्त ज़िन्दगी

बुराइयों की बहार में,

खो सी गई थी मैं

रुक्सत करने वाला नहीं था

पर रुक्सत हो सी गई थी मैं

इतनी परेशानियों में

अपने आप को भूल गयी थी मैं

याद दिलाने वाला नहीं था

सोचती रह गई मैं…

एक-एक लव्ज़ मे

खुशी ढूंढती थी मैं

खुशी जब मिली ही नहीं

तो कैसे मुस्कुराती मै?

फिरसे तुम्हारे जाल में

नहीं फंसने वाली मैं

क्योंकि अब

तुम्हारी आहटौ से वाकिफ हूं मैं..


To read more by the author of कम्बख्त ज़िन्दगीclick here.

 

Rukmini Chariar

Rukmini Chariar - A literature freak with a singing prowess. Emotional with a pinch of darkness in her nature. A tiny girl with not so tiny dreams.